Followers

Wednesday, March 20, 2013

मै कोई ठूंठ दरख़्त नहीं हूँ 
जिसमे ना हो जीवन की धडकन 
वो टूटी शाख भी नहीं हूँ 
जिस पे ना चहचहाना चाहती हो बुलबुलें में
मै पतझड़ का ओ वृक्ष हूँ 
जहाँ आशाओं कामनाओं की कोंपलें 
जन्म लेती रहती है , प्यार के सावन को 
तरसती रहती है 
मुझे गुजरा वक़्त मत समझो जो 
लौट कर आता नहीं , ना ही वो पथ्थर समझो 
जिसे आवाजों के तीर बिंधते नहीं
मै बंजर नहीं ,जहाँ आशाओं की खेती होती नहीं है
मुझे लाश मत समझो
मेरी सांसे अभी भी चलती रहती है...



mai koi thhunthh darakht nahi hun / jisme na ho jiwn ki dhadkan / mai vo tuti shakh bhi na hun , jis pe na chahchahana chahti है bulbulen / mai patjhad ka vo vriksh hun jahan ashaon kamnaon ki konple jnm leti rahti hai / pyar ke sawn ko tarasti rahti hai / mujhe gujra waqt mt smjho ,jo laut kr aata nahi / na hi vo paththr samjho ,jise awajon ke tir bendhte nhi/mai banjar nhi jahan ashaon ki kheti hoti hi nahi / mujhe lash mt samjho , meri sansen abhi bhi chalti rahti hai........

No comments:

Post a Comment