Followers

Friday, March 22, 2013


पीछे से आती तेज़ ठहाकों की आवाज़ !

मै थी कि गहरी नींद में डूबी जा रही थी

जैसे मुझे कितने दिनों बाद ये चैन की नींद
नसीब हुई हो

क्या रिश्ता था
नींद और ठहाकों में ?

शायद ये कवि -ह्रदय की निश्छल आवाज थी

जो हौले हौले थपकियाँ दे मुझे
सुला रही थी
बिना किसी शिकवे शिकायत ! .....

मै नींद की घाटियों में उतरती जा रही थी .....

और

अनेकता में एकता का भाव लिए
विश्व बंधुत्व की परिकल्पना किये
सार्क सम्मेलन के लिए
सात अजनबी भाषाओँ के साथ बस सरपट
सड़कों पर दौड़ रही थी......

( दिल्ली से आगरा कोच में )

Pichhe se aati tez thahakon ki awaj / aur mai gahri nind me dubi ja rahi thi / jaise mujhe kitne dino baad ye chain ki nind nsib hui ho / kya rishta tha nind aur thahakon me / shayd ye kavi hriday ki nishchhl awaz thi / jo houle houle thapkiyan de mujhe sula rahi thi / bina kisi shikve shikayt ke / ../ mai nind ki ghatiypon me utarti ja rahi thi ../ aur anekta me ekta ka bhaw liye /vishw bandhutw ki parikalpna kiye / saarc sammeln ke liye / saat aznbi bhashaon ke sath bas sarpat sadkon pr doud rahi thi......
Like ·  · 

9 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (24-03-2013) के चर्चा मंच 1193 पर भी होगी. सूचनार्थ

    ReplyDelete
    Replies
    1. apki baten achchhi lagi...
      dhanywad ki ushma ke sath..

      Delete
  2. अनेकता में एकता का भाव लिए ...
    मधुर कल्पना संसार में डूबे हुए ... सुंदर भाव ,...

    ReplyDelete
    Replies
    1. jivn me bas pyar liye
      tnn ka mnn ka shringar kiye
      mai jiti sapno ka sansar liye ...

      Delete
  3. बहुत सुन्दर ...
    पधारें " चाँद से करती हूँ बातें "

    ReplyDelete
    Replies
    1. sundar sara sansar hai
      jidhar dekho pyar hi pyar hai
      kash aisa ho jata !!!!!!!!!!!!!!

      Delete
  4. किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।

    ReplyDelete
    Replies
    1. ye likha nhi maine / un anjan bhashaon ne
      jiske hriday ek the
      bs pyar ki hi awaz thi..
      sach kahti hun likh gayi mai
      sukh-sapno me kho gayi mai..

      Delete
  5. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete