Followers

Monday, March 18, 2013


कोरे कागज़ की तरह होते हैं जीवन 
जो चाहो लिख दो तुम 
मै तो क्या कोई कुछ भी न बोलेगा  
बोलना चाहे  तब भी नही 

कलम तुम्हारे हाथ है 
जो चाहो लिख दो तुम 
लिखने की आज़ादी सब को है 
बोलने की भी  आज़ादी सब को है 
लिखो  बोलो तेरा अपना मन है .. हाँ मन ??
लिखने से पहले , बोलने से पहले 
क्या अपना मन ही तुम्हे नही टीसता  होगा ??
कागज के सीने से चीख क्या नही 
उठती होगी >>???


Kore kagaz ki tarah hote hain jivan 
Jo chaho likh do tum 
Mai to kya koi kuchh bhi na bolega 
Bolna chahe tb bhi nhi 

Kalam tumhare hath hai 
Jo chaho likh do tum 
Likhne ki azadi sb ko hai 
Bolne ki bhi azadi sb ko hai 
Likho bolo tera apna mnn hai .. han mnn ??
Likhne se pahle bolne se pahle 
Kya apna mnn hi tumhe nhi tistaa hoga ?
Kagaz ke sine se chikhen kya nhi uthhati hongi ...???


2 comments:

  1. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete