Followers

Friday, December 28, 2012

बुझ गयी ज़िन्दगी

बुझ गयी ज़िन्दगी एक 
बुझती रही ऐसे ही ज़िन्दगी कितनी 
तुम न बुझने देना इनके एहसासों को 
रावण के देश में भटकती सीता की आत्माओं को ....

बेटी तुझे माँ का सलाम ! 

Bujh gayi zindagi ek 
Bujhti rahi aise hi zindagi kitni 
Tum na bujhne dena inke ehsason ko 
Ravan ke desh me bhatakti sita ki atmaon ko ..

BETI TUJHE MA KA SALAM

No comments:

Post a Comment