Followers

Thursday, January 10, 2013

प्रवंचना


हाथ शिथिल हो उठे हैं 
अपने तुम्हारे रिश्तों को सलाइयों  पर बिनते हुए 
सलाइयों पर जोड़ते हुए 
सारी भावनाएँ  सारी  कामनाएँ 
गोद में रखी 
उलझे उन की ढेर की तरह अस्तव्यस्त है 
और 
अपने आप को समेट पाने की चेष्टा में 
सारा का सारा वर्तमान भूत  बन जाता है 
सारा का सारा दिन अतीत ....
न जाने कैसी प्रवंचना छल जाती है मुझे ..

Hath shithil ho uthhe hain apne tumhare rishton ko salaiyon pr binte hue / salaiyon pr jodte hue / sari bhawnayen sari kamnayen  god me rakhe uljhe uun ki dher ki tarah astvyast hai / aur / apne aap ko samet pane ki cheshta me / sara ka sara vartman bhoot bn jata hai / sara ka sara din atit...NA JANE KAISI PRAWANCHNA CHHAL JATI HAI MUJHE.....

No comments:

Post a Comment